CMOS Full Form in Hindi | सिमोस क्या है पूरी जानकारी

5/5 - (1 vote)

CMOS Full Form in Hindi? दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैं आपको CMOS से जुड़ी सारी जानकारी देने वाला हूँ जैसे सिमोस क्या है, CMOS Ka Full Form क्या होता है, यह कैसे काम करता है, सिमोस के होने या न होने से सिस्टम में क्या फर्क पड़ सकता इत्यादि| अगर आप CMOS के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े| मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद आपको सिमोस के बारे में काफी जानकारी हो जाएगी|

इससे पहले के आर्टिकल में मैंने आपको बायोस के बारे में बताया था कि यह एक सॉफ्टवेर है जिसकी मदद से कंप्यूटर शुरू होता है| बायोस का सेटिंग एक छोटे से चिप मी स्टोर किया रहता है और उस चिप को सिमोस कहते हैं| सिमोस सिस्टम के मदरबोर्ड में पाया जाता है| तो चलिए शुरू करते हैं और सबसे पहले यह जानते है कि सिमोस का फुल फॉर्म क्या होता है|

BIOS Full Form in Hindi | BIOS क्या है पूरी जानकारी

सिमोस का फुल फॉर्म : CMOS Full Form in Hindi

CMOS का फुल फॉर्म Complementary Metal Oxide Semiconductor होता है जिसका हिंदी में अर्थ पूरक धातु ऑक्साइड सेमीकंडक्टर होता है|

  • C : Complementary
  • M : Metal
  • O : Oxide
  • S : Semiconductor

सिमोस क्या है : What is CMOS in Hindi

सिमोस कंप्यूटर की एक बहुत छोटी मेमोरी होती है जिसका साइज़ आम तौर पर 256 bytes तक होता है| बायोस की मेमोरी इसी में स्टोर होती है साथ ही इस चिप में सिस्टम पर किस प्रकार के डिस्क या ड्राइव install किये गए है, सिस्टम क्लॉक का कल्चर डेट, टाइम और कुछ हार्डवेयर की सेटिंग भी इसमें सेव होती है| सिमोस एक छोटी RAM की तरह होती है जिसमें सभी बायोस इनफार्मेशन को स्टोर किया जाता है ताकि कंप्यूटर हर बार start, restart या power on होने पर कंप्यूटर इन इनफार्मेशन को याद रख सकता है|

सिमोस को दूसरे और भी नामों से जाना जाता है जैसे CMOS-RAM, Non-Volatile RAM (NVRAM), Non-Volatile BIOS Memory और Real Time Clock (RTC).

सिमोस एक मेमोरी है जिसमे कुछ चीज़े स्टोर रहती है और मेमोरी कई तरह की होती है जैसे Volatile Memory और Non-Volatile Memory.

Volatile Memory उस मेमोरी को कहते है जिसमे से power off होने के बाद भी उसमे से data erase नहीं होता है और Non-Volatile Memory उसे कहते है जिसमे से power off होने के बाद उसमे से data erase यानी ख़तम हो जाता है|

आपके मन में यह सवाल ज़रूर आ रहा होगा कि समोस किस प्रकार की मेमोरी है तो आपको बता दे कि समोस Non-Volatile Memory है यानी power off होने के बाद इसमें जो भी data होगा वो ख़तम हो जाएगा| लेकिन इसका पॉवर कभी ख़तम न हो और इसे लगातार पॉवर मिलता रहे इसके लिए मदरबोर्ड में एक बैटरी install रहती है जो सिर्फ सिमोस के कार्य को पूरा करने के लिए बनाई गई होती है| तो आइये जानते है कि आखिर ये सिमोस बैटरी क्या है और यह काम कैसे करता है|

सिमोस बैटरी क्या है : What is CMOS Battery in Hindi

जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया कि सिमोस के अन्दर बायोस की सेटिंग के अलावा सिस्टम की date और time भी स्टोर रहती है तो अगर सिमोस बैटरी नहीं होती तो जब कंप्यूटर को बंद करते तो सिमोस की सारी सेटिंग भी ख़तम हो जाती क्यूंकि सिमोस एक Non-Volatile Memory होता है| तो इस समस्या को दूर करने के लिए ही इस बैटरी को बनाया गया है| सिमोस की बैटरी बहुत लम्बे समय तक चलती है क्यूंकि कंप्यूटर या लैपटॉप को खोलकर उसके मदरबोर्ड से इसे बदलना बहुत मुश्किल काम होता है|

सिमोस बैटरी सिक्के के आकार का एक Lithium Ion Battery होता है और इसका लाइफ आम तौर पर दस साल तक का होता है लेकिन कभी कभी यह इससे पहले भी खराब हो जाता है| अब यहाँ सवाल यह उठता है कि किसी यूजर को कैसे पता चलेगा कि सिमोस बैटरी ठीक से चल रही है या नहीं| अगर सिस्टम का date और time अपने आप बार-बार बदलता जा रहा है या बायोस की सेटिंग reset हो जा रही है यानी अपने आप बदली जा रही है तो इसका मतलब यह है कि सिमोस बैटरी खराब हो गई है|

सिमोस बैटरी ख़राब हो जाने पर कंप्यूटर की बायोस सेटिंग डिफ़ॉल्ट सेटिंग पर reset हो जाती है| मतलब आपका कंप्यूटर काम तो करेगा ही लेकिन आपके बायोस में सब कुछ जैसे boot sequence, date & time और अन्य फंक्शन reset हो जायेंगे| क्यूंकि जब भी आप कंप्यूटर के बायोस configuration को बदलते हैं तो वह सेटिंग सिमोस के चिप में स्टोर होती है नाकि बायोस के चिप में, इसलिए हर बार कंप्यूटर restart या power on होने पर कंप्यूटर इन configuration को याद रख सके इस लिए सिमोस बैटरी लगातार सिमोस सिप को power supply करती रहती है|

सिमोस को एक्सेस कैसे करते है : How to Access CMOS in Hindi

सिमोस को access करने के लिए कंप्यूटर को on करने के बाद booting process के दौरान ही keyboard से कोई एक key दबाना होता है जैसे F1, F2, F9, F10, Delete और Esc. अलग-अलग ब्रांड के कंप्यूटर में अलग-अलग key के इस्तेमाल से ही सिमोस को एक्सेस किया जाता है| इनमे से किसी एक key को दबाने के बाद आप आसानी से सिमोस सेटिंग के स्क्रीन पर पहुँच जायेंगे जहाँ आप सिस्टम की date और time को बदल सकते है और इसके अन्दर आप कई तरह के हार्डवेयर को enable और disable कर सकते हैं| जैसे USB Port, Video Card, Sound Card इत्यादि|

निष्कर्ष :

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको सिमोस से जुड़ी साड़ी जानकारी दी जैसे सिमोस क्या है, CMOS Ka Full Form क्या होता है, सिमोस बैटरी क्या होता है और सिमोस को एक्सेस कैसे करते है| मुझे उम्मीद है कि अगर आपने इस आर्टिकल को पूरा पढ़ा होगा तो आपको सिमोस सी जुड़ी सारी जानकारी मिल गई होगी|

अगर आपको CMOS Full Form in Hindi इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते है और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर करें|

यह भी पढ़े :

Quantum Computer क्या है और यह कैसे काम करता है ?

Graphic Card क्या है इसका इस्तेमाल क्यूँ किया जाता है ?

Leave a Comment