HTML Full Form in Hindi : HTML क्या है और कैसे काम करता है

Rate this post

दोस्तो अगर आप Internet का इस्तेमाल करते है तो आपने HTML के बारे मे कभी न कभी ज़रूर सुना होगा लेकिन क्या आपको पता है की HTML Full Form in Hindi क्या है या HTML क्या है और इसका इस्तेमाल क्यूँ किया जाता है| अगर नहीं पता है तो मैं आपको इस article मे बताऊँगा की HTML का फुलफॉर्म क्या होता है|

हमे जब भी किसी information की ज़रूरत होती है तो हम तुरंत google पर लिख कर search करके उसे पता कर लेते है| Internet पर हमे जो भी इनफार्मेशन मिलती है वो किसी न किसी website पर मौजुद होती है और वहीं से हमे जानकारी हासिल होती है। क्या आपको पता है की website कैसे बनाये जाते है शायद नहीं, तो मैं आपको बता दूं कि वेबसाइट HTML के जरिये ही बनाये जाते हैं|

तो चलिए HTML के बारे में और विस्तार से जानते है और यह भी जानते हैं कि HTML ka full form क्या होता है अगर आप भी HTML के बारे जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़े|

HTML का फुल फॉर्म : HTML Full Form in Hindi

Html का फुल फॉर्म Hypertext Markup Language होता है|

  • H : Hyper
  • T : Text
  • M : Markup
  • L : Language

Hyper Text :- जब आप किसी वेबसाइट को खोलते है तो उस पेज पर बहुत सारे ऐसे लिंक होते है जो एक पेज से दूसरे पेज को जोड़ते है जब भी आप ऐसे लिंक पर क्लिक करते हैं जो आपको एक नए webpage पर लता है उसे ही Hyper Text कहा जाता है|

Markup Language :-  Markup Language किसी भी webpage के structure को बनाने के लिए काम में आता है| इसमें बहुत से tags मौजुद होते है जिसकी मदद से webpage design किये जाते है| इसमें इस्तेमाल किये जाने वाले tags द्वारा page के content को describe किया जाता है| HTML के सभी tags predefine होते है मतलब पहले से ही मौजुद होते है| Html के अलावा DHTML, XHTML, XML भी markup language है लेकिन इसमें html सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला लैंग्वेज है|

HTML क्या है : What is HTML in Hindi

Html एक computer language है जिसका इस्तेमाल करके वेबसाइट को design और developed किया जाता है| html को website और webpage को बनाने के लिए ही विकसित किया गया है| एक वेबसाइट को डिजाईन करने के लिए और webpage के अंदर text, images और videos, hyperlink का इस्तेमाल करने के लिए html का उपयोग किया जाता है|

HTML छात्रों और कामकाजी पेशेवरों के लिए एक software engineer बनने के लिए जरूरी है, खासकर जब वे वेब डेवलपमेंट डोमेन में काम कर रहे हों| आज इसका इस्तेमाल web development यानि वेबसाइट बनाने के लिए सबसे ज्यादा किया जाता है| इसे सीखना बहुत ही आसान है आप किसी online platform से भी इसे सीख सकते है|

HTML को किसने develop किया था

Html को Tim burners lee ने 1980 को Geneva में develop किया था| यह एक platform independent language है जिसका इस्तेमाल किसी भी operating system में किया जा सकता है| Html का उपयोग webpage को बनाने के लिये किया जाता है लेकिन यह सिर्फ web document बनाने तक ही सिमित नहीं है|

founder of HTML

Html का इस्तेमाल webpage development, navigation, game development, graphics इत्यादि के लिये किया जाता है|

HTML के विशेषताएं : Features of Html in Hindi

  • यह एक बहुत ही आसान और सरल language है इसे आसानी से समझा और संशोधित किया जा सकता है|
  • HTML के साथ एक प्रभावशाली प्रोजेक्ट बनाना बहुत आसान है क्योंकि इसमें बहुत सारे format tags होते है|
  • यह एक markup language है, इसलिए यह text के साथ-साथ webpages को design करने का एक flexible तरीका प्रदान करती है|
  • यह programmer को html anchor tag द्वारा webpage पर एक लिंक जोड़ने की सुविधा देता है, इसलिए यह उपयोगकर्ता की ब्राउज़िंग की रुचि को बढ़ाता है|
  • यह platform independent होता है इसलिए इसे windows, linux और macintosh आदि जैसे किसी भी प्लेटफॉर्म पर display किया जा सकता है|
  • यह प्रोग्रामर को वेब पेजों में graphics, videos और sound जोड़ने की सुविधा देता है जो इसे और अधिक आकर्षक और इंटरैक्टिव बनाता है|

HTML में इस्तेमाल किये जाने वाले Tags

HTML में webpage बनाने के लिए अलग-अलग tags इस्तेमाल किये जाते है जिसमें से कुछ महत्वपूर्ण tags के बारे में नीचे बताया गया है|

<!DOCTYPE> : यह document type को परिभाषित करता है और browser को यह बताता है कि document किस तरह से लिखा गया है यह ब्राउज़र को HTML के संस्करण के बारे में निर्देश देता है|

<HTML> : यह tag की मदद से browser यह पता करता है कि यह एक HTML दस्तावेज़ है| HTML टैग के बीच का text वेब document का वर्णन करता है|

<Head> : इस tag का इस्तेमाल webpage के header area के लिए किया जाता है| यह <html> tag के अंदर पहला tag  होता है, जिसमें metadata  (documents के बारे में जानकारी) होता है और इसे <body> tag से पहले बंद करना होता है|

<Title> : जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, इसका उपयोग उस HTML page का title जोड़ने के लिए किया जाता है जो browser window  के top पर दिखाई देता है| इसे <head> tag के अंदर इस्तेमाल किया जाता है|

<Body> : Body tag के बीच का text उस पेज के content को display करता है जो यूजर को को दिखाई देता है| एक webpage पर जितने भी content दिखाई देतें है वो body tag में ही होता है| इस tag को document में एक बार ही इस्तेमाल किया जाता है और यह <head> tag के नीचे होता है|

Heading Tag – <H1> : Heading tag का इस्तेमाल webpage पर title या subtitle के रूप में किया जाता है जिसे आप webpage पर display करना चाहते है| HTML में <h1> से <h6> तक 6 अलग-अलग heading है <h1> सबसे बड़ा heading tag है और <h6> सबसे छोटा है|

Paragraph Tag – <P> : HTML Paragraph या HTML <p> tag का उपयोग किसी वेबपेज में paragraph को परिभाषित करने के लिए किया जाता है|

HTML के Versions :

जब से HTML का अविष्कार हुआ है तब से बाज़ार में कई सारे html version आ चुके हैं जिसके बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है|

HTML 1.0 :

HTML का पहला version 1.0 था, जो HTML language का बुनियादी version था, और इसे 1991 में जारी किया गया था|

HTML 2.0 :

यह HTML का दूसरा version था जो 1995 में जारी किया गया था, और यह वेबसाइट डिजाइन के लिए standard language version था। HTML 2.0 अतिरिक्त सुविधाओं जैसे form-based file upload, form element जैसे textbox, option button, आदि को support करता था|

HTML 3.2 : 

HTML 3.2 version को W3C द्वारा 1997 की शुरुआत में publish किया गया था| यह version वेबपेज में table बनाने और form elements के लिए अतिरिक्त विकल्पों को support करता था| यह complex mathematical education वाले वेब पेज का भी समर्थन कर सकता है|

HTML 4.01 :

HTML 4.01 version दिसंबर 1999 को जारी किया गया था, और यह HTML language का एक बहुत ही stable version है| यह version वर्तमान में official standard है, और यह विभिन्न मल्टीमीडिया elements के लिए stylesheet (CSS) और scripting क्षमता के लिए अतिरिक्त समर्थन प्रदान करता है|

HTML 5 :

HTML5 हाइपरटेक्स्ट मार्कअप भाषा का सबसे latest और updated version है| इस version का पहला draft जनवरी 2008 में घोषित किया गया था| इसके दो प्रमुख संगठन हैं एक W3C (World Wide Web Consortium) है, और दूसरा WHATWG (Web Hypertext Application Technology Working Group) है जो HTML 5 version के विकास में शामिल हैं, और अभी भी यह विकास के अधीन है|

Html 5 में कई सारे नए feature जोड़े गए है और advanced tags जोड़े गए है जिससे काम करने में आसानी होती है| HTML 5 में बहुत सारे ऐसे tags और attributes जोड़े गए हैं जिसके द्वारा आप webpage में आसानी से graphics और audio, videos इत्यादि जोड़ सकते हैं|

यह भी पढ़े :

Blog क्या है और अपना खुद का blog कैसे बनायें

Digital marketing क्या है

Software क्या है और इसे कैसे बनाते हैं

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको HTML Ka Full Form क्या होता है, HTML क्या है, HTML को किसने develop किया था और इसके अलावा HTML के version और कुछ tags के बारे में बताया| मुझे उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल HTML Full Form in Hindi पसंद आया होगा| अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के पास ज़रूर share करें|

Leave a Comment