ICU Full Form in Hindi | आईसीयु क्या है पूरी जानकारी

Rate this post

ICU Full Form in Hindi? दोस्तों, आपने ICU का नाम कई बार सुना होगा या फिर देखा भी होगा| आईसीयु में ऐसे मरीजों को रखा जाता है जिन्हें कोई गंभीर मेडिकल बीमारी होती है और आईसीयु के ज़रिये उन पर विशेष प्रकार की निगरानी राखी जाती है और उन्हें सेवाएँ दी जाती है|

लेकिन बहुत से लोग ऐसे है जो आईसीयु के बारे में सुने तो है लेकिन इसके बारे में जानते नहीं है कि आईसीयु क्या है, ICU Ka Full Form क्या होता है, आईसीयु के अन्दर कौन-कौन से उपकरण रखे जाते है, आईसीयु में मरीजों को क्यूँ और कैसे रखा जाता है और इसके साथ यह भी बताएँगे कि आईसीयु में क्या सावधानिया राखी जाती है और आईसीयु का खर्च कितना होता है| इसी लिए आज के इस आर्टिकल में मैं आपको आईसीयु के बारे में विस्तार से बताने वाले है|

आईसीयु का फुल फॉर्म : ICU Full Form in Hindi

ICU का फुल फॉर्म Intensive Care Unit होता है जिसका हिंदी में अर्थ गहन चिकित्सा इकाई होता है|

  • I : Intensive (गहन)
  • C : Care (चिकित्सा)
  • U : Unit (इकाई)

आईसीयु क्या होता है : What is ICU in Hindi

ICU का मतलब गहन चिकित्सा इकाई होता है| यह अस्पताल का एक विशेष विभाग होता है जो गंभीर चोट या बीमारी से पीड़ित मरीजों को गहन देखभाल दवाएं और जीवन समर्थन प्रदान करता है| गहन देखभाल इकाइयाँ सबसे गंभीर और जानलेवा चोटों या बीमारी वाले रोगियों की देखभाल करती हैं, जिन्हें विशेष डॉक्टरों और नर्सों की एक टीम द्वारा निरंतर और करीबी निगरानी की आवश्यकता होती है| यह टीम गंभीर रूप से बीमार या गंभीर रूप से घायल मरीजों की देखभाल के लिए प्रशिक्षित है| यदि आवश्यक हो तो मरीजों को सीधे आपातकालीन विभाग से आईसीयू में स्थानांतरित किया जा सकता है| यह आमतौर पर तब किया जाता है जब रोगी की स्थिति लगातार बिगड़ती जाती है|

आईसीयु के साधन क्या-क्या है : Resources of ICU in Hindi

जब आप पहली बार अपने किसी दोस्त या रिश्तेदार से मिलने जाते है तो उन चीजों में से एक जो आपको चिंतित कर सकती है वो आपके परिवार से जुड़े उपकरण और मशीनों की संख्या है| आईसीयु में विभिन्न प्रकार के उपकरण या साधन है जो निम्नलिखित है|

1. Ventilator : वेंटीलेटर का उपयोग तब किया जाता है जब रोगी इतने कमज़ोर या बीमार होते हैं कि खुद सांस भी नहीं ले पाते है| जब आपके परिवार के सदस्य या मित्र वेंटीलेटर में होते है तो वह आपसे बात करने में सक्षम नहीं होते है|

2. Heart Monitor : हार्ट मॉनिटर एक स्क्रीन पर चलने वाली रेखाओं के साथ एक टीवी की तरह दिखता है| ये रेखाएं रोगी की दिल की गतिविधियों को मापती है| हार्ट मॉनिटर रोगी से sticky pad यानी चिपकने वाला पैड के द्वारा त्वचा से जुड़ा होता है|

3. Feeding Tubes : अगर कोई व्यक्ति खाने में असमर्थ होता है तो उसके नाक में पेट में बने छोटे कण की माध्यम से या नस में बने ट्यूबे के माध्यम से भोजन दिया जाता है|

4. Trans Catheter : ट्रांस शरीर से रक्त या सरल पदार्थ की किसी भी निर्माण को हटाने के लिए उपयोग में की जाने वाली ट्यूबे होती है| कैथेटर मूत्र को निकलने के लिए मूत्राशय में डाली जाने वाली ट्यूबे होती है|

पेशेंट को आईसीयु में क्यूँ रखा जाता है

अगर कोई गंभीर रूप से बीमार है और उसे गहन उपचार और करीबी निगरानी की आवशयकता है या किसी की सर्जरी हुई है और गहन देखभाल से उन्हें मदद मिल सकती है तो उस मरीज़ को आईसीयु में रखने की आवशयकता होती है| कई अलग-अलग परिस्थितियां है जिन्स्में किसी को आईसीयु में रखने की आवशयकता होती है|

जैसे कि कोई बड़ी सर्जरी की गई हो, गंभीर दुर्घटना जैसे कार दुर्घटना, गंभीर रूप से जलने पर इसके बाद के उपचार के लिए, किसी भी प्रकार की गंभीर बीमारी उदहारण के लिए हार्टफेल, किडनीफेल, दिल का दौरा, किसी गंभीर संक्रमण के दौरान उदहारण के लिए कोरोना, निमोनिया, इसके अलावा यदि कोई बच्चा समय से पहले या फिर गंभीर बिमारी के साथ पैदा होता है तो वैसे बच्चो के लिए Neonatal Intensive Care Unit नामक एक विशष आईसीयु होता है|

पेशेंट को आईसीयु में कैसे रखा जाता है

आईसीयु में मरीजों पर आईसीयु की कर्मचारियों की एक टीम द्वारा बारीकी से निगरानी रखा जाता है और कई ट्यूबे, तार और केबल के द्वारा उपकरण से मरीज़ को जोड़ा जाता है| आम तौर पर प्रत्येक एक या दो मरीज़ के एक नर्स होती है| आईसीयु में मरीजों को मशीनों की एक विश्लित संखला से जोड़ा जाता है लेकिन जो खास मशीन हो वो हार्टमॉनिटर या वेंटीलेटर होता है|

आईसीयु मशीने beep की ध्वनि करती है और अगर रोगी की स्तिथि में कोई बदलाव होता है तो कर्मचारियों का ध्यान मरीज़ की तरफ आकर्षित करने का काम करती है| आईसीयु हेल्थ केयर टीम अच्छे से समझती है जैसे कि आईसीयु में एक मरीज़ कितना परेशान हो सकता है और इसी लिए वह तत्काल परिवारों का समर्थन करने के लिए उपलब्ध होते है|

आईसीयु में ट्रीटमेंट करवाने की कीमत कितनी होती है

आईसीयु में रखने की लागत मरीज़ के लिए आवशयक प्रतिक्रिया, आईसीयु में बिताये गए समय और विशेष देखभाल की आवश्यकता पर निर्भर करता है| भारत में एक निजी अस्पताल में आईसीयु में मरीज़ के भरती रहने के लिए 30,000 रूपये से लेकर 50,000 रूपये के बीच प्रतिदिन खर्च आ सकता है| इतनी बड़ी लागत के कारण आप घर पर आईसीयु सेवा का चयन कर सकते है घर पर यही लागत 7500 रूपये से लेकर 12,500 रूपये तक होती है|

निष्कर्ष :

तो दोस्तों, मुझे आशा है कि आपको ICU Kya Hai, ICU Ka Full Form क्या होता है और इसके बारे में पूरी जानकारी मिली होगी और इसके बारे में पूरी तरह से समझ में भी आ गया होगा| और मेरी आप सभी से गुज़ारिश है कि आप इस जानकारी को आस पास, रिश्तेदार और दोस्तों के पास शेयर करें ताकि हमारे बीच जागुरुक्ता हो और इससे सबको बहुत लाभ होगा| दोस्तों अगर आपको ICU Full Form in Hindi से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट में लिखकर ज़रूर बताये|

यह भी पढ़े :

ISP Full Form in Hindi

DSLR Full Form in Hindi

NASA Full Form in Hindi

ISRO Full Form in Hindi

NEET Full Form in Hindi

Leave a Comment