Internet kya hai और internet का मालिक कौन है ?

Rate this post

Internet kya hai? आज internet का इस्तेमाल वयापार से लेकर banking, education, cummunication, entertaiment आदि का प्रमुख केंद्र बन गया है आज इंटरनेट के बिना जीवन बिताना बहुत ही कठिन हो गया है आज सभी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते है |

internet ने हमारी बहुत सी समस्यओं को दूर किया है जैसे, आज हम internet की मदद से दुनिया के किसी भी कोने में बैठे लोगों से बात कर सकते है लेकिन यह कई समस्यओं को जन्म भी दिया है |

आज हम internet kya hai, internet की शुरुआत कैसे हुई, internet कैसे काम करता है, internet का मालिक कौन है इन सभी के बारे में पेरी जानकारी मै आपको दूंगा |

Internet kya hai – What is Internet in Hindi

Internet एक Global नेटवर्क है इंटरनेट सूचना तकनीक की सबसे आधुनिक प्रणाली है यह telephone और satelite के माध्यम से विभीन्न स्थानों और देशो के computer को जोड़कर बनाया गया नेटवर्क है|

यह दो या दो से आधिक computer आपस में जोड़ता है सूचनाओ के आदान प्रदान और डाटा share करने के लिए भी हम internet का इस्तेमाल करते है|

Internet पर किसी भी देश, कंपनी या व्यक्ति का अधिकार नहीं है अत: यदि internet से आपको कोई हानि पहुंचती है(Virus आदि) तो आप कहीं पर भी शिकायत नहीं कर सकते इस कारण एक Anti Virus लेना और भी अवश्यक हो जाता है|

यह दुनियाभर के अरबों कंप्यूटर उपभोक्ताओं को जोड़ने के लिए Standard Internet Protocol Suit (TCP/IP) का प्रयोग करता है|

TCP की भूमिका डेटा को छोटे छोटे भागो में बाँटने की होते है और IP इन पैकेटों पर लच्छ स्थल का पता अंकित करता है|

Internet का इतिहास – History of Internet in Hindi

1969 में अमेरिका के रक्षा विभाग Advance Research Project Agencyके द्वारा ARPANET नामक एक नेटवर्क को विकसित किया गया था|

यह उन दिनों की बात है जब USSR(Union of Soviet Socialist Republic) और USA में COLD WAR चल रहा था उस समय अमेरिका को सन्देश भेजने के लिए किसी ऐसे माध्यम की जरुरत पड़ी जो Bombproof हो, ताकि USSR द्वारा हमले की स्तिथि में भी Army, Navy और  Airforce के बीच तालमेल बना रहे वह माध्यम था Electronic Text आधारित internet |

वर्ष 1970 में सर्वप्रथम internet की शुरुआत ‘Vinton Gray Cerf’ और ‘Bob Kanh’ के द्वारा की गयी| इन दोनों को father of internet भी कहा जाता है |

‘Ray Tomlinson’ ने 1972 में पहला e-mail भेजा था |

1973 में internet नेटवर्क को इस्तेमाल करने के लिए कुछ Standard Protocol के समूह (FTP & TCP/IP) को विकसित किया गया जिसके द्वारा लोग एक दुसरे से communicate केर सके और डेटा share कर सके |

COLD WAR के बाद पहली बार internet का इस्तेमाल British Postoffice में किया गया था |

नेशनल साइंस नेटवर्क ने कुछ हाई स्पीड कंप्यूटरों को जोड़कर साल 1980 में एक नेटवर्क (NSFNet) तैयार किया, जिसके बाद internet की नीवं रखी गयी |

आम जनता के लिए 1989 में internet को खोल दिया गया था |

शिक्षा एवं रिसर्च से संबंधित सूचनाओ के आदान प्रदान के लिए हाई स्पीड नेटवर्क को विकसित करने के लिए 1991 में NREN(National Research And Education Network) की स्थापना की गयी |

भारत में internet कब आया ?

15 August 1995 में भारत में पहली बार internet का उपयोग किया गया था |

यह सेवा भारत के टेलिकॉम कंपनी VSNL(Videsh Sanchar Nigam Limited) ने उपलब्ध करायी थी | इसका इस्तेमाल महत्वपूर्ण सूचनाओ के आदान प्रदान के लिए किया जाता था और इसकी स्पीड 8-10kbps थी|

जब भारत में internet की शुरुआत की गयी थी तब इससे मात्र 20-30 computer जुड़े थे और internet कनेक्शन का खर्च भी बहुत होता था |

internet कैसे काम करता है ?

internet क्लाइंट और सर्वर की मदद से काम करता है computer, mobile आदि जो internet से जुड़ा होता है वह क्लाइंट कहलाता है नाकि server क्योंकि यह सीधे internet से जुदा नहीं है हालंकि, यह Internet Service Provider(ISP) के माध्यम से internet से indirect रूप से जुड़ा हुआ है और IP Adress के जरिये इसे पहचाना जाता है जो की एक number के form में होता है |

जिस तरह आपके घर के लिए एक पता होता है जो विशिष्ट(uniquly) रूप से आपके घर का पहचान करता है उसी तरह IP Adress आपके device के पते के रूप में काम करता है |

IP Adress आपके ISP द्वारा प्रदान किया जाता है और आप देख सकते है आपके ISP ने आपको क्या IP Address दिया है|

एक Server एक बड़ा computer होता है जो वेबसाइट को स्टोर करता है जहाँ बड़ी संख्य में server स्टोर रहता है उसे डाटा सेंटर कहते है server एक नेटवर्क(internet)पर एक ब्राउज़र के माध्यम से क्लाइंट द्वारा भेजे गए अनुरोधों को स्वीकार करता है और उसी के अनुसार प्रतिकिर्या करता है|

internet का उपयोग करने के लिए domain name की आवश्यकता पड़ती है जो की एक IP Adress को दर्शाता है हर डोमेन नाम का एक IP Address होता है जैसे:-YouTube.com, Google.com, Amazon.com Facebook.com आदि |

domain name इसलिए बनाये जाते है क्यूंकि IP Address को याद रखना बहुत ही मुश्किल होता है लेकिन internet डोमेन नाम को नहीं समझता है वह IP Address को समझता है, इसलिए जब आप अपने ब्राउज़र में डोमेन नाम सर्च करते है तब internet DNS(Domain Name Server) की मदद से इस डोमेन के IP Address का पता करता है |

जब server को किसी वेबसाइट के बारे में जानकारी प्रदान करने का अनुरोध मिलता है तो डेटा प्रवाहित(flowing) होने लगता है डेटा को Optical Fibre Cables के माध्यम से Digital Format या Light Pulses के रूप में ट्रान्सफर किया जाता है क्यूंकि server को दूर के स्थानों पर रखा जाता है इसलिए डेटा को आपके computer तक पहुँचाने के लिए Optical Fibre के माध्यम से हज़ारो मील की यात्रा करनी पड़ती है |

Optical Fibre एक router से जुड़ा होता है जो light signal को electrical signal में बदलता है यह electrical signal Etranet Cable का उपयोग करके आपके computer में transmitted होते है, इसतरह आप internet से जानकारी प्राप्त करते है |

अगर आप wifi और mobile data जैसे wireless internet का इस्तेमाल करते है तब optical fibre से यह signal को पहले cell tower को भेजे जाता है उसके बाद यह आपके मोबाइल या computer तक पहुंचता है |

internet पर डेटा transfer बहुत तेज़ी से होता है इस गति का कारण यह है की डाटा को Binary Form(1,0) में भेजा जाता है और इन 0 और 1 को छोटे छोटे टुकड़ो में बाट दिया जाता है जिसे packets कहते है जिसे तेज़ गति पर भेजा जा सकता है|

internet पर क्या-क्या कार्य कर सकते है ?

internet पर आप विभिन्न प्रकार के कार्य कर सकते है जैसे :-

  • Email भेज और प्राप्त कर सकते है |
  • विभिन्न websites देख सकते है |
  • Game खेल सकते है |
  • अपने मनपसन्द व्यक्ति से बात कर सकते है |
  • किसी भी विषय पर सुचना प्राप्त कर सकते है |
  • खरीदी कर सकते है |
  • नौकरी के लिए अपना बायोडाटा भेज सकते है |
  • अपनी वेबसाइट बना सकते है |
  • programs को download कर सकते है |
  • अपनी कंपनी का विज्ञापन दे सकते है |

ये तो मात्र वे कुछ सामान्य कार्य है, जो आज सभी लोग करते है| इनके अलावा और भी बहुत से कार्य internet द्वारा होते है |

Mobile से Computer पर internet कैसे चलाये

क्या आप जानते है कि mobile से computer पर internet कैसे चलते है अगर नहीं तो आज हम आपको इसके बारे में भी बताएँगे अगर आपके पास internet का इस्तेमाल करने के लिए internet dongle या wifi connection नहीं है तो आप निचे बताये गए methods के द्वारा अपने mobile से computer में internet का उपयोग कर सकते है |

Method 1 (USB Cable)

पुराने computer में Bluetooth Hotspot या Wifi की सुविधा नहीं होते है जिसकी वजह से आपको उन computer में internet चलने में समस्या आती है ऐसे में आप अपने USB Cable के इस्तेमाल से अपने computer में mobile के द्वारा internet चला सकते है इसके इस्तेमाल से आप अपने mobile और computer के बीच डेटा भी share कर सकते है |

step – 1 :- सबसे पहले आप अपने mobile internet data को ON कर लीजिये |

step – 2 :- इसके बाद USB Cable के एक छोर को अपने computer के usb port में डाले और दुसरे छोर को अपने mobile में |

step – 3 :- अब Mobile setting में जाकर USB tethering search कर उसपे click करे |

usb tethering

step – 4 :- आपको USB tethering का option नज़र आएगा उसे ON कर देना है |

usb tethering

अब आपको अपने computer के notification bar में internet access का message दिखाई देगा इसका मतलब यह है कि अब आप अपने computer में internet का इस्तेमाल कर सकते है |

Method 2 (Wifi Hotspot)

इस method को इस्तेमाल करने के लिए आपके computer में wifi hotspot का option होना जरुरी है अगर आपके computer में wifi hotspot का option नहीं है तो आप पहले market से wifi adapter मंगा ले और उसे अपने computer पर install कर लीजिये |

step – 1 :- सबसे पहले अपने mobile का internet data को ON कर लीजिये |

step – 2 :- इसके बाद अपने mobile के setting में जाकर portable hotspot पर click करे |

hotspot

step – 3 :- अब personal wifi hotspot को ON कर दे |

hotspot

step – 4 :- इसके बाद अपने computer में left side में network पर click करके phone hotspot address को search कर connect कर ले |

Method 3 (Bluetooth tethering)

इस method के इस्तेमाल करने के लिए आप अपने mobile और computer के bluetooth को ON कर लीजिये और अपने mobile और computer को pair कर ले इसके बाद निचे बताये गए steps को follow करे |

step – 1 :- अपने mobile internet data को ON कर ले |

step – 2 :- इसके बाद अपने mobile के setting में जाकर bluetooth tethering को ON कर दे |

bluetooth

इसके बाद आपका computer automatically internet access हो जायेगा |

Conclusion

आज हमने आपको internet kya hai, internet का इस्तेमाल कहाँ होता है, इसकी शुरुआत कैसे हुई आदि के बारे बताया हमे उम्मीद है आपको ये article पसंद आई होगी अगर आपको इस post के related कोई सवाल है तो आप comment में पूछ सकते है हम जल्द से जल्द आपके सवाल का जवाब देंगे और अपने दोस्तों को भी इसे share करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसके बारे में जान सके, धन्यवाद |

Leave a Comment