KYC Full Form in Hindi | KYC क्या है और क्यूँ ज़रूरी है

Rate this post

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैं आपको KYC क्या है, KYC Full Form in Hindi, KYC ka full form, KYC क्यूँ ज़रूरी है, इसका इस्तेमाल कहाँ किया जाता है और KYC को करने में क्या-क्या documents की ज़रूरत पढ़ती है इन सभी के बारे में बताने वाला हूँ | अगर आप इन सभी सवालों के जवाब जानना चाहते है तो यह आर्टिकल पूरा पढ़े |

अगर आपको किसी बैंक में account खुलवाना हो, loan के लिए apply करना हो, या फिर किसी Online Transaction जैसे Paytm, Phonepe, Amazon आदि को इस्तेमाल करना हो तो आपको KYC की ज़रूरत पड़ती है | लेकिन आपको यह पता नहीं होता है आखिर ये KYC होता क्या है तो आईये जानते है इसके बारे में पूरी जानकारी जानते है |

KYC का फुल फॉर्म : KYC Full Form in Hindi

KYC का फुल फॉर्म Know Your Customer होता है जिसका हिंदी में अर्थ होता है अपने ग्राहक को जानो |

  • K : Know
  • Y : Your 
  • C : Customer

KYC क्या है : What is KYC in Hindi

KYC एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें बैंक और वित्तीय संस्थान द्वारा अपने ग्राहकों की पहचान कराई जाती है | इसकी शुरुआत साल 2002 में रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) द्वारा की गई थी | KYC को money laundering, पहचान की चोरी और अवैध लेनदेन जैसे financial frauds को रोकने के लिए शुरू किया गया था |

> Aadhar Card क्या है | Aadhar Card download

> UPI क्या है और कैसे काम करता है

जब आप अपना KYC करवातें हैं, तो बैंक को आप अपनी पहचान, पता और वित्तीय इतिहास के बारे में सूचित करते हो इससे बैंक को यह पहचानने में मदद मिलती है इसमें निवेश किया गया धन money laundering या illegal activities के लिए नहीं है |

यह ग्राहकों को धोकेबाज़ो से बचाता है जो धोखाधड़ी वाले लेनदेन के लिए अपने नाम, पते और जाली हस्ताक्षर का उपयोग कर सकते है | इसलिए बैंक और वित्तीय संस्थान के ग्राहकों को सही और विश्वसनीय दस्तावेज़ जमा करना चाहिए ताकि बैंक अपने ग्राहकों की पहचान कर सके और बेहतर तरीके से सेवा दे सके |

KYC verification के प्रकार : Types of KYC verification

KYC verification के दो प्रकार होते है जिसके द्वारा आप KYC verify करा सकते है |

  1. Aadhar-based Verification
  2. In-person KYC Verification

1. Aadhar-based Verification :

Aadhar-based KYC verification ऑनलाइन किया जाता है | आप Aadhar OTP-based online KYC या Aadhar-based Biometric KYC का विकल्प चुन सकते है | यदि आप Aadhar OTP-based online KYC का विकल्प चुनते है तो आप एक वर्ष में केवल 50 हज़ार प्रति फण्ड तक ही निवेश कर सकते है |

2. In-person KYC Verification :

जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है कि इस प्रकार के KYC verification ऑफलाइन किये जाते है | In-person KYC verification के लिए आपको bank, fund house के office या KYC Kiosk में जाना पड़ता है | अगर आप In-person KYC Verification का विकल्प चुनते है तो आप इसमें जितनी चाहे उतना निवेश कर सकते है इसकी कोई सीमा नहीं है |

KYC के महत्व : Importance of KYC

KYC के महत्वपूर्ण होने का एक मुख्य कारण यह है कि इससे पहचान करने में आसानी हो जाती है कि वित्तीय निकायों का उपयोग किसी भी money laundering के लिए नहीं किया जा रहा है | KYC के महत्वपूर्ण होने का एक और मुख्य कारण यह है कि गैर-व्यक्तिगत ग्राहक है जो जो वित्तीय सेवाओं जैसे trading, mutual fund investment आदि का उपयोग करते है | वैसे में बैंक, वित्तीय संसथान और अन्केय लोगों  पास उस इकाई की legal status को verify करने का अधिकार होता है |

> GNM का Full Form क्या होता है

> CBI का Full Form क्या होता है

KYC के लिए ज़रूरी documents

अगर आप KYC करना चाहते हैं तो आपके मन में यह सवाल ज़रूर आ रहा होगा कि KYC कराने के लिए कौन-कौन से दस्तावेज़ो की ज़रूरत पड़ती है | KYC करवाने के लिए आपसे आपकी पहचान (Identity Proof) और आपकी पहचान (Address Proof) माँगा जाता है | निचे कुछ documents की list दी गई है जिसमे से कोई एक documents का इस्तेमाल करके आप केवाईसी करा सकते है |

Proof of Identity

  1. Aadhar Card
  2. Pan Card
  3. Voter Id
  4. Driving License
  5. Passport
  6. Nrega Card

Proof of Address

  1. Electricity Bill
  2. Gas Bill
  3. Phone Bill
  4. Passport
  5. Ration Card
  6. Bank Account Statement

KYC कैसे करें : How to do KYC

KYC को आप online और offline दोनों तरीके से कर सकते है | जिसके बारे में नीचे बताया गया है |

KYC online कैसे करें

  • सबसे पहले आपको KRA (KYC Registration Agency) के website पर जाना होगा | कुछ KRC इस प्रकार है – NDML, CAMS, KARVY, CVL और NSE .
  • इसके बाद आप अपने आधार कार्ड की details दर्ज करें |
  • अब आपके मोबाइल पर एक OTP आएगा जो number आपके आधार से लिंक है उस code को दर्ज करें |
  • अपना application submit करें |
  • इसके बाद आपका application को UIDAI द्वारा verify किया जाएगा उसके बाद ही KRA आपके KYC को मंज़ूरी देता है |
  • अब आप अपने PAN Card का उपयोग करके KRA के पोर्टल पर जाकर अपने KYC का status देख सकते है |

KYC offline कैसे करें

  • सबसे पहले आपको KYC फॉर्म की ज़रूरत पड़ती है आप इस फॉर्म को यहाँ से download कर सकते है | download form
  • Form को download करने के बाद उस form को सही सही भरे |
  • उसके बाद अपने आधार/पैन details को mention करें |
  • इसके बाद आपको KRA office में जाकर अपने फॉर्म को submit करना होगा |
  • फॉर्म के साथ proof of identity या proof of address को ज़रूर attached करें |
  • आपको एक application number दिया जाएगा जिसकी मदद से आप अपने KYC का status की जाँच कर सकते है |

KYC से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल

मैं बिना KYC कराये bank या mutual fund में निवेश कर सकता हूँ ?

नहीं, आपको bank या mutual fund में निवेश करने के लिए KYC करना होगा |

क्या KYC कराना सुरक्षित है ?

हाँ, Designated KYC Registration Agencies द्वारा किया गया KYC एक सुरक्षित और परेशानी मुक्त प्रक्रिया है |

KYC करने में कितना दिन का समय लगता है ?

KYC के verification में एक दिन से भी कम का समय लगता है | हालांकि, KYC verify होने में अधिकतम 7 दिन का हो सकता है |

क्या KYC कराने के लिए पैसे देने होते है ?

नहीं, KYC verification पूरी तरह से नि:शुल्क होता है |

यह भी पढ़े :-

> CID का Full Form क्या होता है

> WHO का Full Form क्या होता है 

दोस्तों, आज आपने जाना कि KYC किसे कहते है, इसकी ज़रूरत कुएँ पड़ती है और KYC कैसे करें | मुझे उम्मीद है कि आपको KYC Full Form in Hindi पसंद आया होगा | अगर आपको KYC से related कोई सवाल है तो आप हमें ईमेल कर सकते है और आपको यह article कैसा लगा यह comment में ज़रूर बताये और इसे share करना न भूले |

 

Leave a Comment