Meet 2nd December 2022 Written Update: मिलिए अहलावत को दौरा पड़ता है

Meet 2nd December 2022 Written Update: एपिसोड की शुरुआत नीलम द्वारा मीत अहलावत को अच्छे कपड़े पहने देखकर होती है। मीट याद करती है कि उसने पूरे अहलावत परिवार को अपनी योजना के बारे में क्या कहा था। बबीता अहलावत से मिलने के लिए भगवान से प्रार्थना करती है। राज ने अहलावत से मिलने के लिए कहा। मिलिए अहलावत बिना किसी की मदद के सीढ़ियों से नीचे उतर आते हैं। रागिनी गलती से एक सेब गिरा देती है। जब मीत अहलावत एपल पर कदम रखने वाली हैं। मिलने के संकेत अहलावत से मिलें ताकि वह खाँसने पर रुक जाए। मीत अहलावत याद करते हैं कि यह संकेत है कि उन्होंने तय किया कि क्या उनके मार्ग में कुछ ऐसा है जो वहां नहीं होना चाहिए। मिलिए अहलावत बबीता के पास आते हैं और कहते हैं कि अगर मीत को सर्दी ठीक नहीं हुई तो वह अकेले ही केक काटेगा। मीट फीड्स मिलिए अहलावत से परोता।

नीलम यह पता लगाने के लिए एक टेनिस बॉल फेंकने का फैसला करती है कि मीत अहलावत ने वास्तव में अपनी दृष्टि वापस पा ली है या नहीं। नीलम ने अहलावत से मिलने के लिए गेंद फेंकी। मिलिए अहलावत ने गेंद को लपका। घरवाले उसके पकड़ने के लिए ताली बजाते हैं। मिलिए सवाल अहलावत से मिलिए उन्होंने गेंद कैसे पकड़ी? मिलिए अहलावत ने मीत को याद दिलाया कि वह अपनी क्रिकेट टीम में सबसे अच्छा विकेटकीपर हुआ करता था और कहता है कि अगर कोई गेंद सहज रूप से उसकी ओर आती है तो वह गेंद को पकड़ सकता है। राज और राम को लगता है कि कुछ बच्चों ने गेंद फेंकी। नीलम का मानना ​​है कि मीत अहलावत गेंद को कैच करते देखकर ठीक हो रहे हैं।

मीत अहलावत से गले मिलते हुए कहती है कि नीलम यह सोचकर फर्नीचर तोड़ रही है कि मीत अहलावत की आंखों की रोशनी कैसे वापस आ सकती है। मिलिए अहलावत ने मीत के बारे में चिंता करते हुए कहा कि अगर वह ठीक नहीं हो सकता है तो उसके बारे में क्या। मीत अहलावत से इस तरह बात नहीं करने के लिए कहती है और कहती है कि उसे भरोसा है कि उसका प्यार सब कुछ जीत लेगा। मीत कहती है कि अगर उसे मौत से लड़ना है तो भी वह लड़ेगी।

मीत नर्सों के साथ नीलम के कमरे में आती है। नीलम मीट से पूछती है कि वे कौन हैं? मीत का कहना है कि ये नर्सें उसे मेंटल हॉस्पिटल ले जाने के लिए यहां आई थीं। बबिता ने अहलावत को बधाई दी। मिलिए अहलावत को दौरे पड़ते हैं।

नीलम सजावट देखती है और मीत से पूछती है कि क्या यह सजावट उनकी शादी की सालगिरह के लिए है। मिलिए हाँ कहते हैं। नीलम कहती है कि यह अच्छा है क्योंकि वह आज मानसिक अस्पताल जा रही है। नीलम नर्सों के साथ स्वेच्छा से जाती है। मीत सोचती है कि अगर नीलम गुस्सा नहीं करती और जहर का इस्तेमाल नहीं करती तो उसे जहर का नाम कैसे पता चलेगा। बबीता अहलावत से मिलने की चिंता करती है और परिवार के सभी सदस्यों को बुलाती है। नीलम ने मीट से आखिरी बार अहलावत से मिलने की अनुमति देने का अनुरोध किया। नीलम को अहलावत के कमरे में जाते हुए दिखाया गया है। परिवार के सभी सदस्य मीत अहलावत को लेकर चिंतित नजर आ रहे हैं।

मीत नीलम को मीट अहलावत के कमरे में जाने से रोकता है और कहता है कि नीलम ने उन्हें बहुत चोट पहुंचाई और कहा कि अगर मीत अहलावत ने उसे देखा तो वह उसे डांटेगा। मीत कहती है कि वह नहीं चाहती कि घर से निकलते समय उसे बुरा लगे। नीलम सोचती है कि वह यह भी देखेगी कि उनकी शादी कैसे होगी। नीलम नर्सों के साथ निकल जाती है। मीत नीलम को अलविदा कहती है। बबीता मीत अहलावत का नाम लेती हैं। मीत बबीता की आवाज सुनता है और अहलावत के कमरे में जाता है। मीट अहलावत को प्रोत्साहित करता है और कहता है कि उन्हें जल्द ही मारक मिल जाएगा। राम डॉक्टर को अहलावत हवेली आने के लिए बुलाता है।

डॉक्टर मीत अहलावत की जाँच करता है और कहता है कि उसने मीत अहलावत के दौरे को नियंत्रित करने के लिए दवा दी है और कहता है कि अगर दो घंटे तक मारक दवा नहीं दी गई तो वह मर जाएगा। बबिता डॉक्टर से उसे बचाने के लिए कुछ करने की गुहार लगाती है। डॉक्टर राज को इसका पालन करने के लिए एक नुस्खा देता है। मीत सभी को नाटक करने के लिए राजी कर लेती है और उनसे वचन मांगती है कि वे इस नाटक में उसका समर्थन करेंगे। सब सहमत हैं।

एपिसोड समाप्त होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *