Operating System kya hai और इसके कितने प्रकार होते है ?

Rate this post

Operating System kya hai? दोस्तों operating system के बारे में बहुत से लोग जानते है क्यूंकि इसका इस्तेमाल हम रोज़ mobile या computer के द्वारा करते है | लेकिन आपको operating system kya hai यह नहीं पता तो आपको घबराने की जरुरत नहीं क्यूंकि आज के इस article में हम आपको operating system के बारे में पूरी जानकारी देंगे |

जिस तरह mobile और internet आज हमारी ज़िन्दगी का एक हिस्सा बन गया है जिसके बिना आज हम एक काम भी नहीं कर सकते ठीक उसी तरह mobile और computer को सही तरह से काम करने के लिए operating system को बनाया गया है |

इसे इस प्रकार समझा जा सकता है कि जिस तरह हमारे शरीर में बहुत सारे अंग होता है उसमे से कोई अंग ख़राब हो जाता है फिर भी हम जीवित रहते है लेकिन अगर हमारे शरीर से आत्मा निकाल दिया जाए तो हमारे शरीर के अंग कोई काम के नहीं होंगे | ठीक उसी तरह mobile और computer के अन्दर भी बहुत से part लगे होते है लेकिन इसमें operating system इनके अंदर install नहीं किया जाए तो वो mobile या computer start नहीं होगा | इसीलिए operating system बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा होता है किसी भी mobile, computer, tablet आदि का |

आज हम operating system kya hai इसके कितने प्रकार होते है यह कैसे काम करता है इन सभी के बारे में विस्तार से बताने वाले है |

Operating System kya hai – What is Operating System in Hindi

Operating System को छोटे रूप में OS भी कहा जाता है | यह एक system software है जो computer के hardware और software के बीच सभी कामो को संचालन करता है |

operating system kya hai

 

Operating System एक ऐसा software है जो computer और user के बीच एक interface पर्दान करता है जिसके ज़रिये user computer के साथ communicate कर पाता है और इसके लिए user को computer की भाषा समझने की भी जरुरत नहीं पड़ती है |

सभी computer को सभी तरीके से काम करने के लिए और दुसरे application या programs को run करने के लिए operating system की ज़रूरत पड़ती है | Chrome, MS-word, Photoshop, Games आदि एक platform की ज़रूरत पड़ती है जिसमे वो run कर सके और अपना task perform कर सके और ये platform उन्हें operating system प्रदान कराता है | बिना operating system के computer बेकार है |

Operating system बहुत से छोटे-छोटे programs का एक समूह होता है जिसे एक साथ जोड़ कर system के storage device में रखा जाता है | यही program का समूह है जो computer के resources जैसे hardware और उनके कार्य को manage करता है | computer के hardware अपने बल पर कार्य नहीं कर सकते और ना ही एक दुसरे के साथ interact कर सकते है | इसीलिए operating system के द्वारा किये जाने वाले electronic signal के द्वारा ही ये hardware अपना काम पूरा कर पाते है |

OS computer में load होने वाला पहला software होता है यह computer के hardware और software के बीच एक bridge के तरह काम करता है ताकि दोनों एक दुसरे के साथ interact कर सके |

Operating System के कई अलग-अलग नाम है लेकिन उनका काम एक ही जैसा होता है और वो काम है user को computer के साथ communicate कर पाना और hardware को manage करना | अब तक operating system के नाम है Windows, Mac, Linux, IOS, Android etc.

Operating System क्या कार्य करता है

operating system computer का सबसे ज़रूरी part होता है जो सभी साधारण और महत्वपूर्ण कार्य करता है जैसे keyboard द्वारा किये जाने वाले keys को समझना, output को दिखाना, hard-disk के files और directory को manage करना और computer के सभी parts से communicate करना ये सभी चीज़े शामिल है इसके अलावा ये और भी कई तरह के काम करता है जिसके बारे में निचे बताया गया है |

1. Memory Management

Primary Memory या Main Memory के management को ही memory management कहा जाता है | Operating system primary memory के हर एक कार्य को track करता है यानी इसका कौन सा भाग उपयोग में है और कौन सा भाग उपयोग में नहीं है | Memory कितना और कहाँ इस्तेमाल हो रही है इसका भी पता लगता है और मांगने पर memory उपलब्द भी करता है | Multiprocessing के समय OS यह तय करता है की किस प्रकिर्या को कब और कितनी memory मिलेगी | जब कोई program का कार्य ख़तम हो जाता है तो यह allocate की गयी memory को वापस conserve करता है |

2. Processor Management

यह processor management की सुविधा देता है जहाँ यह processor तक पहुँचने के लिए processes के order को तय करता है और साथ ही प्रत्येक process के लिए allocate की जाने वाले processing time को भी तय करता है |इसके अलावा, यह processes की status की निगरानी करता है | जब कोई process execute होता है तो processor को मुक्त करता है और फिर इसे नई प्रक्रिया में allocate करता है |

3. Device Management

Operating system अपने सम्बंधित drivers के माध्यम से device communication का management करता है | इसके लिए OS सभी devices पर नज़र रखता है | इस कार्य के लिए OS के जिस program का उपयोग होता है उसे Input Output Controller के रूप में जाना जाता है | OS यह तय करता है कि process को device कब और कितने समय के लिए देनी है | जब device का कार्य पूरा हो जाता है तब program उसे deactivate कर देता है |

4. File Management

File System को आसान रूप से इस्तेमाल करने के directory का इस्तेमाल किया जाता है | OS इन सभी files की सुचना, स्थान, user, status आदि पर नज़र रखता है | यह files की हर सुचना को track करता है और साथ ही file का location क्या है, file कब बनाई गई, file किस यूजर ने बनाई ये सारी जानकारी भी OS record करता है |

5. Security

OS हमारे system को unauthorized access से रोकता है इअका मतलब यह है कि आपका computer आपके अलावा दूसरा user इस्तेमाल नहीं कर सकता है | और इसके लिए OS password देने की पूरी आज़ादी देता है | जब आप अपना computer ON करते है तो सबसे पहले वो आपसे password पूछता है और इसके बाद ही आगे की प्रक्रिया होती है इससे आपका computer सुरक्षित रहता है |

6. Provides User Interface

यह user और hardware के बीच एक GUI interface के रूप में कार्य करता है | जहाँ आप विभिन्न कार्यो को करने के लिए screen पर elements को देख और क्लिक कर सकते  है | इसे द्वारा आप बिना computer की भाषा जाने बिना भी computer के साथ communicate कर सकते है |

Operating System के प्रकार – Types of Operating System in Hindi

समय समय पर technology में बदलाव किये जा रहे है साथ ही computer ने भी समय के साथ काफी विकास किया है | जब से computer की स्थापना हुई है तभी से operating system का भी इस्तेमाल किया जा रहा है | आज operating system का उपयोग हर field में किया जा रहा है जैसे railway, research, satellite आदि | अब हम जानते है की operating system कितने प्रकार के होते है |

1.Multi User Operating System

यह operating system एक ही समय में एक से अधिक user को एक साथ काम करने की सुविधा प्रदान करता है | यह OS computer नेटवर्क में उपयोग किया जाता है जो कि एक ही समय में एक ही data और application को एक से अधिक user को access करने की अनुमति देता है |

2. Single User Operating System

यह operating system एक समय में एक ही यूजर को कार्य करने की अनुमति है | Personal computer में इस्तेमाल होने वाला operating system को single user operating system कहते है जिसे एक समय में एक ही कार्य को करने के लिए design किया गया है |

3. Multitasking Operating System

यह operating system user को एक साथ कई program को चलाने की सुविधा देता है | इस तरह के operating system में आप email भी लिख सकते है और साथ ही गाने भी सुन सकते है |

4. Network Operating System

Network operating system उन computers को अपना service प्रदान करती है जो कि एक network से connected होते है | यह एक ऐसा operating system है जो multiple computers को एक साथ communicate करने के लिए, files share करने के लिए और दुसरे hardware devices को access करने के लिए अनुमति देता है | Network operating system network पर run होने वाला operating system है |

5. Distributed Operating System

Distributed operating system ऐसे operating system को कहते है जो data को store करते है और बहुत सारे location पर distribute कर देते है | इस प्रकार के operating system में बहुत सारे central processors का उपयोग किया जाता है और इन processors के बीच processing के कार्य को बाँट दिया जाता है | यह central processor कोई mobile, computer, node या कोई अन्य device हो सकता है | और ये सभी processor communication lines के द्वारा एक दुसरे से connected रहते है | इसका एक फायदा यह भी है की अगर एक computer या node बंद भी कर दिया जाये तो अन्य दुसरे computers से काम किया जा सकता है |

Conclusion :

दोस्तों, आज हमने आपको operating system kya hai के बारे में विस्तार से बताया है हमें आशा है operating system के बारे में जानकारी हो गई होगी अगर आप लोगों को operating system kya hai से कोई सवाल है तो आप हमें comment में ज़रूर पूछे और दोस्तों अगर आपको यह article पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ ज़रूर share करें |

Leave a Comment