रेडिएशन क्या है पूरी जानकारी | Meaning of Radiation in Hindi

5/5 - (1 vote)

रेडिएशन क्या है? हमने अपने सुविधा के लिए कई प्रकार के उपकरणों को जन्म दिया है लेकिन इसका सबसे बड़ा negative effect हमारे environment को पड़ा है जिसे हम रेडिएशन इफ़ेक्ट कहते है| इसकी वजह से बहुत सारी पंक्षी की प्रजातियाँ नष्ट हो गई है और मानव की कोशिकाओं पर भी इसका असर बहुत बुरी तरह से पड़ रहा है|

इस लिए आज हम आपके सामने एक नई जानकारी के साथ हाज़िर हुए हैं जिसके बारे में जानना आपके लिए लाभदायक होगा| तो आज हम इस आर्टिकल में रेडिएशन के बारे में बात करेंगे जैसे रेडिएशन क्या होता है, Meaning of Radiation in Hindi, यह कैसे उत्पन्न होते है और उसके हमारे दैनिक जीवन में क्या-क्या उपयोग है| अगर आप भी इन सभी जानकारी के बारे में जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े|

रेडिएशन क्या है : What is Radiation in Hindi

Radiation को हिंदी में विकिरण कहा जाता है| रेडिएशन एक प्रकार की energy होती है जो कि किसी wave या किसी particle द्वारा वातावरण में चलती रहती है| रेडिएशन प्रकाश की स्पीड से अंतरीक्ष में यात्रा करती रहती है| हम हर पल रेडिएशन का शिकार होते हैं| मोबाइल या लैपटॉप से निकलने वाली electromagnetic wave, xray मशीन से निकलने वाली xray और किसी item से निकलने वाली उर्जा ये सभी रेडिएशन कहलाती है| वहीँ ultrasound से लेकर हमारी आवाज़ या कोई भरी आवाज़ से उठ रही तरंगे ये सभी रेडिएशन होते है जो एक प्रकार की एनर्जी ही होती है|

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि एक केला जिसे हम सब बहुत आराम से खाते है असल में वह एक radio active material है जिसे ज़्यादा मात्रा में खाने से हमारे शारीर में रेडिएशन normal level से ज़्यादा level में पहुँच जाता है जो हमें नुक्सान भी पहुँचा सकता है| केले की इसी बात को देखकर वैज्ञानिको ने Banana Equivalent Dose का concept तैयार किया था जो यह बताता है कि एक इंसान वास्तव में कितने हद तक रेडिएशन को झेल सकता है| रेडिएशन से भरी कोई भी चीज़ हमारे शरीर में कोई भी खराबी करके हमें नुकसान पहुँचा सकता है|

रेडिएशन के प्रकार : Types of Radiation in Hindi

रेडिएशन मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है|

  1. Ionizing Radiation
  2. Non – Ionizing Radiation

1. Ionizing Radiation

Ionizing Radiation किसी भी पदार्थ में आयरन की मात्रा क बढ़ा देता है| जो आपके सेल में मौजूद DNA को नुक्सान पहुँचा सकता है| यह non-ionizing के मुकाबले ज़्यादा पॉवर की होती है क्यूंकि इसमें इलेक्ट्रान बढ़ती या घटती रहती है| जिसके कारण यह हमारे शरीर और आसपास की चीजों पर अपना अलग प्रभाव छोड़ती है| कुछ ionizing radiation इतनी ताकतवर होती है कि वह कैंसर कारक भी होती है|

इसके तीन प्रकार होते है Alpha, Beta और Photon.

Alpha Radiation : अल्फा रेडिएशन की गति प्रकाश की गति का केवल 10 प्रतिशत होती है| यह बहुत कमज़ोर रेडिएशन होता है और यह बहुत पतली चीज़ को भी पार नहीं कर सकती है| अगर किसी radio active साधन से अल्फा रेडिएशन निकाल रही है और उसके सामने एक कागज़ रख दिया जाये तो वह रेडिएशन उस कागज़ को भी पार नहीं कर पाएगी| लेकिन यह रेडिएशन किसी भी तरह से हमारे शरीर के अन्दर बहुंच जाये तो वह बहुत घातक हो सकता है क्यूंकि इसमें positive charge होता है|

Beta Radiation : बीटा रेडिएशन हमारे शरीर के अन्दर प्रवेश कर सकता है यह 0.2 से 1.3 सेंटीमीटर तक हमारे अन्दर प्रवेश कर सकता है| अगर यह हमारे शरीर के किसी एक हिस्से पर ज़्यादा देर तक केन्द्रित रह गया तो यह हमारे शरीर के उस भाग को जला सकता है| कोई भी वास्तु जो 1.3 सेंटीमीटर से ज़्यादा चौड़ी होती है यह उसको पार नहीं कर पायेगा जैसे दीवार| इसकी गति प्रकाश की गति का 90 प्रतिशत होता है और इसमें negative charge होता है|

Photon Radiation : फोटोन रेडिएशन दो प्रकार के होते है gamma radiation और x radiation, गामा रेडिएशन की गति प्रकाश की गति के बराबर होती है| यह शरीर के आर पार जा सकती है और इससे सबसे ज़्यादा नुकसान शरीर को होता है और इसमें कोई charge नहीं होता है| X रेडिएशन गामा रेडिएशन के मुकाबले कम ताकतवर होता है|

Ionizing Radiation के प्रभाव

Ionizing रेडिएशन तब हानिकारक है जब यह भारी मात्रा में शरीर पर पड़े, इसके कुछ मुख्य प्रभाव इस प्रकार है|

  • यह हमारे शरीर के cells, tissus, organ यहाँ तक कि पूरे शरीर पर प्रभाव दाल सकती है जिससे शरीर के कई अंग हमेशा के लिए काम करना बंद कर सकते है या लम्बे समय तक ख़राब रह सकते है|
  • यह हमारे डीएनए को खराब कर सकती है|
  • मानव शरीर में पानी की मात्रा सबसे अधिक होती है अगर ये रेडिएशन हमारे शरीर के वाटर लेवल पर प्रभाव डालती है तो ये हमारे हड्डी को तोड़ सकती है|
  • यह हमारे शरीर के रक्तचाप पर प्रभाव डाल सकती है और blood count को घटा बढ़ा सकती है|
  • इसके कुछ और भी प्रभाव हो सकती है जैसे बालो का झड़ना, स्किन का जलना इत्यादि|

2. Non – Ionizing Radiation

यह रेडिएशन में कम पॉवर की होती है क्यूंकि इसमें से जो भी जितनी उर्जा निकलती है वह आयरन के विकास के लिए पर्याप्त नहीं है जिस करण यह हमारे शरीर में मौजूद डीएनए को नुक्सान नहीं पहुँचा पाती है इसीलिए यह कैंसर कारक नहीं है| इसमें कई प्रकार के चीज़े शामिल है Light, Radar, Microwaves, Radiowaves.

Non – Ionizing Radiation के प्रभाव

Non – Ionizing Radiation में भी कुछ ऐसे अपवाद होते हैं जो हमें काफी नुकसान पहुँचा सकते है|

  • Laser Light – cosmetic surgery में इसी लेज़र लाइट का इस्तेमाल किया जाता है जो हमारे त्वचा को जला सकती है|
  • Ultra-Violet Rays – ये rays हमारे शरीर को कई प्रकार का नुकसान पहुँचा सकता है sunbar या taining इसके सबसे अच्छे उदहारण है और यह rays आँखों के लिए भी नुकसानदायक होते हैं|
  • Skin Cancer – non-ionizing radiation से जो सबसे खतरनाक समस्या होती है वो स्किन कैंसर है| इस रेडिएशन के प्रभाव कई कारको पर निर्भर करते है जैसे कितनी उर्जा का प्रयोग किया जा रहा है, माध्यम क्या है और कितनी देर तक इस उर्जा का प्रयोग शरीर पर किया जा रहा है|

रेडिएशन के सकारात्मक प्रभाव हमारे जीवन पर

दोस्तों, ऐसा नहीं है कि रेडिएशन के केवल दुष्ट प्रभाव ही होते है| ये आज मानव के लिए वरदान भी साबित हो सकता है| अगर रेडिएशन के दुष्ट प्रभाव से कैंसर हो सकता है तो आपको यह जान कर ख़ुशी होगी कि आज टेक्नोलॉजी इतना आगे हो गया है कि इसी रेडिएशन से कैंसर का इलाज भी हो रहा है|

रेडिएशन थेरेपी कैंसर पीड़ित लोगों के लिए वरदान की तरह काम कर रहा है| कैंसर में असामान्य रूप से शरीर में सेल विकसित होते हैं जिसे नष्ट करने में रेडिएशन थेरेपी काम में लाई जा रही है|

निष्कर्ष :

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको रेडिएशन के बारे में पूरी जानकारी दी जैसे Radiation Kya Hai, यह कितने प्रकार के होते है इत्यादि| अगर आपको इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट में पूछ सकते है और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आय हो तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर करें|

यह भी पढ़े :

Artificial Intelligence क्या है ?

Holographyक्या होता है ?

Hyperloop क्या है ?

Quantum Computer क्या है ?

Leave a Comment