26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस क्यूँ मनाया जाता है

गणतंत्र दिवस क्यूँ मनाया जाता है? दोस्तों, जैसा कि हम सभी को पता है कि गणतंत्र दिवस भारत का राष्ट्रिय त्यौहार है और सभी भारतीय इसे 26 जनवरी को बहुत ही उल्लास के साथ मनाते है | 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू किया गया था और उसी दिन भारत को एक गणतंत्र देश के रूप में माना गया था | गणतंत्र का अर्थ होता है लोगों द्वारा चलाये जाने वाला देश यानी कि एक ऐसा देश जहाँ सभी नागरिक अपने खुद के फैसले आजादी से कर सकता है | आज भारत का कोई भी नेता लोगों के चुनाव के माध्यम से ही बनाये जाते हैं |

तो सवाल यह आता है कि हम क्यूँ गणतंत्र दिवस मनाते है? जैसा कि हम सभी को पता है कि हमारा देश 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 को डॉ भीम राव आंबेडकर की मदद से भारत को एक मजबूत संविधान मिला था उसी दिन से 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) के रूप में उत्साह के साथ मनाया जाता रहा है |

भारत के कुछ महान भारतीय स्वतंत्रा सैनानी नेताओं में इन महान नेताओं का भी नाम आता है जैसे महात्मा गाँधी, चन्द्र शेखर आजाद, भगत सिंह, लाला लाजपत राय, सरदार वल्लवभाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री इन स्वतंत्रा सैनानियों ने हमारे देश को आजाद कराने के लिए अपनी जान की परवाह नहीं की थी और उनके महान कामों के लिए ही आज भी उनका नाम भारत के इतिहास में आज भी जिन्दा है |

26 जनवरी 2022 को हम अपने देश का 73वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे है, लेकिन ऐसा क्या हुआ था इस दिन जो भारत की आजादी के लिए इतना महत्वपूर्ण बन गया और भारत में गणतंत्र दिवस क्यूँ मनाया जाता है इन सभी सवालों के जवाब आज आपको इस आर्टिकल से मिल जायेंगे जिसके लिए आपको इस आर्टिकल को आखिर तक पढ़ना होगा |

गणतंत्र दिवस क्यूँ मनाया जाता है

जैसा कि 26 जनवरी पूरा देश 73वां देश मनाने जा रहा है, इसी दिन 26 जनवरी 1950 में भारत सरकार अधिनियम Act 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था | वहीँ 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा की ओर से संविधान अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार पर्णाली के साथ लागू कर दिया गया |

26 जनवरी को ही क्यूँ संविधान लागू किया गया था

26 जनवरी के दिन को ही इसलिए चुना गया क्यूंकि 1930 में इसी दिन भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस ने भारत को पूर्ण सवराज्य घोषित किया था |

गणतंत्र दिवस का इतिहास

सन 1929 में लाहोर में पंडित जवाहरलाल नेहरु की अध्यिछ्ता में भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस का अधिवेशन हुआ जिसमें परिस्ताओ पारित कर इस बात की घोषणा की गई कि अगर अंग्रेज़ सरकार 26 जनवरी 1930 तक भारत को Dominion का पद नहीं प्रदान करेगी जिसके तहत भारत ब्रिटिश साम्राज्य में ही स्वसासित इकाई बन जाता तो भारत अपने को पूर्ण स्वतंत्र घोषित कर देगा |

विकीपीडिया के अनुसार, 26 जनवरी 1930 तक जब अंग्रेज सरकार ने कुछ नहीं किया, तब कांग्रेस ने उस दिन भारत की पूर्ण स्वतंत्रता निशचय की घोषणा की और अपना सकिर्ये आंदोलन प्रारंभ किया | भारत के आजाद हो जाने के बाद संविधान सभा की घोषणा हुई और इसने अपना कार्य 9 दिसम्बर 1947 से शुरू कर दिया | संविधान सभा ने 2 साल 11 महीने 18 दिन में भारतीय संविधान का निर्माण किया और संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ राजेंदर प्रसाद को 26 नवम्बर 1949 को भारत का संविधान सवपुर्त्र किया |

कई सुधार और बदलाव के बाद सभा के 308 सदस्यों ने 24 जनवरी 1950 को संविधान के दो हस्त लिखित कॉपियो पर हस्ताक्षर किये और इसके दो दिन के बाद 26 जनवरी को संविधान पूरे देश में लागू हो गया |

गणतंत्र दिवस से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

  • गणतंत्र दिवस परेड के दौरान एक christian ध्वनि बजाई जाती है जिसका नाम Abide with Me है क्यूंकि यह ध्वनि महात्मा गाँधी के प्रिय ध्वनियों में से एक है |
  • भारत के पहले गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि Indonesia के पूर्व राष्ट्रपति Sukarno थे |
  • गणतंत्र दिवस समारोह का राजपथ में पहली बार आयोजन साल 1955 में किया गया था |
  • भारतीय गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान भारत के राष्ट्रपति को 21 तोपों की सलामी दी जाती है |
  • 1950 से 1954 के बीच गणतंत्र दिवस दिल्ली के विभिन्न स्थानों पर आयोजित किया जाता था, राजपथ पर इसका आयोजन साल 1955 से शुरू किया गया था |
  • भारत के संविधान में कुल 448 लेख, 12 अनुसूची और 25 भाग शामिल है जो कि हमारे संविधान को विश्व का सबसे बड़ा लिखा हुआ संविधान बनाता है |
  • डॉ बाबा साहेब आंबेडकर को भारत के संविधान के पिता का दर्जा प्राप्त है, उनके द्वारा ही हमारे देश के संविधान को तैयार किया गया था |

निष्कर्ष :

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको गणतंत्र दिवस क्यूँ मनाया जाता है इसके बारे में जानकारी दी और इसके अलावा गणतंत्र दिवस के इतिहास के बारे में बताया | अगर आपने इस आर्टिकल को पूरा पढ़ा होगा तो मुझे उम्मीद है कि कि आपको यह पता चल गया होगा कि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस क्यूँ मनाया जाता है |

अगर अपन मन में गणतंत्र दिवस से सम्बंधित कोई और सवाल है तो आप नीचे कमेंट में लिखकर ज़रूर बताये ताकि हम जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब दे सके | और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को यह पता चल सके कि हमारे देश में संविधान कैसे लिखा गया था उअर हमारे देश में 26 जनवरी का क्या महत्व है |

यह भी पढ़े :

ई-श्रम कार्ड क्या है कैसे बनवायें

SSC Full Form in Hindi

CBI Full Form in Hindi

CID Full Form in Hindi

Leave a Comment