स्पेस साइंटिस्सट क्या है | स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने जाने हिंदी में

Rate this post

स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने? सॅटॅलाइट और नई तकनीक के ज़रिये मौसम और ग्रहों और उपग्रहों के बारे में सटिक जानकारी दे पाना पहले से आसान हो गया है, वायुमंडल अथवा पृथ्वी के हलचल का पता लगाना भी आसान हो गया है| ये सब space science की वजह से संभव हो पाया है| साल दर साल इसमें नई चीज़े शामिल होती जा रही है| इसमें एडवांस कंप्यूटर एवं सुपर कंप्यूटर से डेटा इकठ्ठा करने का काम किया जाता है| डेटा न मिलने की स्थिति में आकलन के ज़रिये किसी निष्कर्ष तक पहुँचने की कोशिश की जाती है|

इस काम से जुड़े professional स्पेस साइंटिस्ट कहलाते है| समय के साथ यह एक powerful career का रूप धारण कर चुका है और इस क्षेत्र में युवाओ की दिलचस्पी तेज़ी से बढ़ रही है| industry के जानकारों का भी मानना है कि आने वाले कुछ सालो में इसमें नौकरी बढ़ेगी| ऐसे में आपको यह जानना बहुत ज़रूरी है कि स्पेस साइंटिस्ट क्या होता है, स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने और स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए क्या ज़रूरी होता है इत्यादि| इसलिए आज के इस आर्टिकल में मैं आपको स्पेस साइंटिस्ट के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ तो इस आर्टिकल अंत तक ज़रूर पढ़े|

स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने यह जानने से पहले आपको यह जान लेना बहुत ज़रूरी है कि स्पेस साइंस क्या है तो जानते हैं इसके बारे में कि यह क्या होता है?

स्पेस साइंस क्या है : What is Space Science in Hindi

यह साइंस की एक ऐसी शाखा है जिसके अंतर्गत हम ब्रहमांड का अध्ययन करते हैं| इसमें ग्रहों और तारो आदि के बारे में जानकारी होती है| छात्रों के कोर्स के दौरान यह भी जानकारी दी जाती है कि किस तरह से पृथ्वी और सौरमंडल की उत्पत्ति हुई| इसमें प्रयुक्त होने वाले उपकरणों के बारे में भी छात्रों को थ्योरी और प्रैक्टिकल के रूप में जानकारी दी जाती है|

नेटवर्क क्या है और इसके प्रकार

स्पेस साइंटिस्ट क्या है : What is Space Scientist in Hindi

स्पेस साइंटिस्ट एक ऐसा क्षेत्र है जहां वैज्ञानिक ब्रहमांड पर शोध करते हैं| इस क्षेत्र में इसमें दो तरह के अंतरिक्ष वैज्ञानिक शामिल हैं – Physicists (भौतिक विज्ञानी) और Astronomers (खगोलविद)| भौतिक विज्ञानी क्षेत्र और प्रयोगशाला उपकरणों के सैद्धांतिक क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करते हैं अंतरिक्ष में चीजें कैसे काम करती हैं, इसके लिए वे जिम्मेदार हैं| जबकि खगोलविद सितारों, ग्रहों, आकाशगंगाओं आदि पर अपना अध्ययन करते हैं और उसके बारे में जानकारी एकत्रित करते हैं|

स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने : How to become a Space Scientist in Hindi

एक अच्छा प्रोफेशनल स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए साइंस विषयों ख़ास कर फिजिक्स का बेहतर ज्ञान होना ज़रूरी है| कंप्यूटर की अच्छी जानकारी एवं इंजिनियरिंग के बेसिक्स पर मजबूत पकड़ उन्हें काफी आगे तक ले जा सकती है| कम्युनिकेशन, राइटिंग स्किल और प्रेजेंटेशन तैयार करने का कौशल हर मोड़ पर सम्यक सहायता दिलाता है| इसके अलावा प्रोफेशनल को परिश्रमी, धर्य्वान व जिज्ञासु प्रवृत्ति का बनना होगा, क्यूंकि इससे सम्बंधित अधिकांश कार्य रिसर्च अथवा आकलन पर आधारित होते है|

रेडिएशन क्या है पूरी जानकारी

स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए कोलिफिकेसन क्या होनी चाहिए

इसमें जो भी कोर्स है वो बैचलर से लाकर पीएचडी लेवल तक है| बैचलर कोर्स में एडमिशन तभी मिल पायेगा जब छात्र ने 12th की परीक्षा साइंस विषय (फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स) के साथ पास की हो| इसमें आल इंडिया लेवल पर प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है| इसमें सफल होने के बाद ही बैचलर कोर्स में दाखिला मिलता है, जबकि मास्टर कोर्स में btech या bsc के बाद दाखिला मिलता है| यदि किसी छात्र में विशेषज्ञता हासिल करना चाहते हैं तो उन्हें पीएचडी की डिग्री लेनी अनिवार्य है|

स्पेस साइंस की शाखाएं : Branches in Space Science in Hindi

1. Astronomy (एस्ट्रोनॉमी) : यह स्पेस साइंस की एक ऐसी महत्वपूर्ण शाखा है जिसके अंतर्गत सूर्य, चंद्रमा, तारे आदि का अध्यन किया जाता है| आम तौर पर इसमें एस्ट्रोनॉमी आकलन पर फोकस होता है|

2. Astrophysics (एस्ट्रोफिजिक्स) : यह वो शाखा है जिसके अंतर्गत तारो के जन्म, मृत्यु व जीवन, गृह, आकाशगंगा एक सौरमंडल के तत्वों का अध्यान भौतिक एवं रसायनशस्त्र के नियमों के आधारपर किया जाता है|

3. Cosmology (कॉस्मोलॉजी) : कॉस्मोलॉजी के अंतर्गत ब्रहमांड का बड़े पैमाने पर अध्यन किया जाता है| इसमें ब्रहमांड की उत्पति से लेकर विस्तार तक की पूरी प्रकिर्या को शामिल किया जाता है|

4. Planetary Science (प्लेनेटरी साइंस) : यह शाखा गृह, सॅटॅलाइट और सौरमंडल के अन्य ग्रहों को समझने में विस्तार करती है| इसमें छात्र वायुमंडल गृह के सतह से आतंरिक भाग तक का अध्यन करते हैं|

5. Staller Science (स्टेलर साइंस) : सौरमंडल में सभी तारे एक विशेष parameter के तहत व्यवस्थित होते है ये बहुत कुछ सूर्य की स्थिति पर निर्भर रहती है, स्टेलर साइंस में इसका अध्यन किया जाता है|

क्वांटम कंप्यूटर क्या है यह कैसे काम करता है

स्पेस साइंस में रोज़गार के क्या अवसर है : Scope in Space Science in Hindi

सफलतापूर्वक कोर्स करने के बाद इस क्षेत्र में रोज़गार के लिए आपको भटकना नहीं पड़ता है| प्रोफेशनल को NASA, ISRO, DRDO, HAL, NAL आदि में प्रमुख पदों पर काम मिलता है| इसके अलावा स्पेसक्राफ्ट सॉफ्टवेर डेवलपिंग फर्म, रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर, स्पेसक्राफ्ट मैन्युफैक्चरिंग फर्म, स्पेस टूरिस्म में भी रोजगार की प्रचुरता है| प्रमुख विश्वविद्यालय एवं कॉलेज स्पेस साइंटिस्ट को अपने यहाँ रख रहे हैं| स्पेस रिसर्च एजेंसी, साइंस म्यूजियम एवं प्लैनेटेरियम में भी हर साल बड़े पैमाने पर नियुक्तियां होती है| इसरो व नासा बड़े रोज़गार प्रदाता के रूप में जाने जाते है|

स्पेस साइंटिस्ट की सैलरी कितनी होती है : Salary of Space Scientist in Hindi

स्पेस इंडस्ट्री में प्रोफेशनल को काफी आकर्षक सैलरी मिलती है बशर्ते उन्हें काम की अच्छी समझ हो| आम तौर पत शुरूआती दौर में एक स्पेस साइंटिस्ट को 25-30 हज़ार रूपये प्रति महीने मिलते है, जबकि 2-3 साल के अनुभव के बाद यही राशी 40-50 हज़ार रूपये तक पहुँच जाती है| रिसर्च के क्षेत्र में आज कई ऐसे साइंटिस्ट भी है जो सालाना लाखो के पैकेज पर अपनी सेवाएँ दे रहे हैं| विदेशों में भी प्रोफेशनल को आकर्षक सैलरी दी जाती है|

Artificial Intelligence क्या है यह किस तरह दुनिया को बदल रही है

स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए कुछ प्रमुख कोर्स

  • B-Tech in Space Science (4 Years)
  • BSC in Space Science (3 Years)
  • M-Tech in Space Science (2 Years)
  • MSC in Space Science (2 Years)
  • MI in Space Science (2 Years)
  • PHD in Space Science (3 Years)

भारत के टॉप स्पेस साइंस कॉलेज : Top Space Science Colleges in India

  • Raman Research Institute, Bangalore
  • Physical Research Laboratory, Ahmedabad
  • Radio Astronomy Center, Ooty
  • Indian Institute of Astrophysics, Bangalore
  • Inter-University Centre for Astronomy and Astrophysics, Pune
  • National Centre for Radio Astronomy, Pune
  • Indian Institute of Science, Bangalore
  • Indian Institute of Science and Technology, Kerala
  • Aryabhatta Research Institute of Observation Science, Nainital
  • Centre of Earth and Space Science, (University of Hyderabad)

निष्कर्ष :

तो दोस्तों, आज के इस आर्टिकल मैंने आपको स्पेस साइंटिस्ट के बारे में पूरी जानकारी दी जैसे स्पेस साइंस क्या है, स्पेस साइंटिस्ट किसे कहते है, स्पेस साइंटिस्ट कैसे बने, स्पेस साइंटिस्ट बनने के लिए क्या-क्या ज़रूरी है इत्यादि| मुझे उम्मीद है कि अगर आपने इस आर्टिकल को पूरा पढ़ा होगा तो आपको स्पेस साइंस और स्पेस साइंटिस्ट के बारे में पूरी जानकारी हो गई होगी| अगर आपको इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते है| और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर करें|

Leave a Comment