What is Blockchain in Hindi | ब्लॉकचेन क्या है पूरी जानकारी

Rate this post

What is Blockchain in Hindi? क्या आपने blockchain का नाम सुना है अगर नहीं तो आपने bitcoin का नाम तो ज़रूर सुना होगा| अगर आप बिटकॉइन के बारे में पहले से जानते हैं तो आपको ब्लॉकचेन को समझना आसान हो जाएगा और अगर अआप बिटकॉइन या क्रिप्टोकरेंसी के बारे में नहीं जानते है तो इस पर क्लिक कर इसके बारे में जान सकते है|

बिटकॉइन के record keeping technology को blockchain कहते है और ये बित्कोइन जैसे क्रिप्टोकरेंसी के अलावा बैंकिंग और इन्वेस्टिंग की दूसरी फॉर्म से भी relate करती है| इसलिए आज के इस आर्टिकल में मैं आपको blockchain के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ जैसे ब्लॉकचेन क्या है, ब्लॉकचेन कैसे काम करता है और इससे जुड़े और भी सवालों के उत्तर आपको आज इस आर्टिकल से मिलेंगे जिसके लिए आपको यह आर्टिकल पूरा पढ़ना होगा|

ब्लॉकचैन क्या है : What is Blockchain in Hindi

असल में ब्लॉकचेन एक प्रकार का database है जिसे कंप्यूटर नेटवर्क के नोड्स के बीच शेयर किया जाता है| database इनफार्मेशन का एक कलेक्शन होता है जो कंप्यूटर सिस्टम पर electronically स्टोर रहता है| इस database में इनफार्मेशन और डेटा एक टेबल फॉर्म में सेट होते है ताकि किसी specific डेटा की सर्चिंग और फ़िल्टरिंग आसानी से की जा सके| यूँ तो एक spread sheet भी टेबल फॉर्म में होती है लेकिन database उससे अलग इसलिए होती है क्यूंकि spread sheet एक व्यक्ति के लिए तैयार किया जाता है जबकि database का इस्तेमाल कितने भी यूजर एक बार में कर सकते है|

ब्लॉकचेन का purpose डिजिटल डेटा को रिकॉर्ड और डिस्ट्रीब्यूट करने की परमिशन देना है लेकिन एडिट करने की नहीं| ये टेक्नोलॉजी सबसे पहले 1991 में Stuart Haber और W. Scott Stornetta के ज़रिये सामने आई थी| लेकिन ब्लॉकचेन को अपने पहली real world application साल 2009 में बिटकॉइन के लांच के साथ मिली|

इसे ब्लॉकचैन क्यूँ कहा जाता है

ब्लॉकचेन इनफार्मेशन को ग्रुप में कलेक्ट करता है और इन ग्रुप को blocks भी कहा जाता है| हर एक ब्लॉक में लिमिटेड स्टोरेज capacity होती है| जब एक ब्लॉक भर जाता है तो वह पहले भरे हुए ब्लॉक से जुड़ जाता है और ऐसे ही एक डेटा की चैन बन जाती है| इसीलिए इसे blockchain कहा जाता है|

ब्लॉकचेन कैसे काम करता है

ये ब्लॉकचेन ऐसी ब्लॉक की चेन है जिसमें इनफार्मेशन स्टोर होती है| हर ब्लॉक के पास पिछले ब्लॉक का क्रिप्टोग्राफिक hash मौजूद होता है| ये hash हर transaction पर generate होता है| और यह letters और numbers का एक string होता है|

hash ऐसा कनेक्शन है जो letters और numbers के input को एक फिक्स length के encrypted output में convert करता है| ये hash केवल transaction पर निर्भर नहीं करता है बल्कि चेन में उससे पहले बने transaction hash पर भी निर्भर करता है| अगर transaction में एक छोटा सा भी चेंज किया जाए तो एक नया hash बन जाता है यानी ब्लॉकचेन के डेटा के साथ कोई भी छेड़छाड़ करने की कोशिश की जाये तो उसकी साड़ी सेटिंग चेंज हो जाती है और इस तरह से रिकॉर्ड में हुई हेरा फेरी का पता लगाया जा सकता है|

ये ब्लॉकचेन बहुत से कंप्यूटर पर spread होती है और हर कंप्यूटर के पास ब्लॉकचेन की एक कॉपी होती है| इन कंप्यूटर को nodes कहते है| ये Nodes को चेक करके पता लगाते हैं कि transaction में कोई बदलाव हुआ है या नहीं| अगर transaction को ज़्यादातर nodes approve कर देते हैं तो उस transaction को ब्लॉक में लिखा जाता है|

ये nodes ब्लॉकचेन का इन्फ्रास्ट्रक्चर होते हैं ये ब्लॉकचेन डेटा को store, spread और preserve करते हैं| एक full node computer जैसी एक डिवाइस होती है जिसके पास ब्लॉकचेन की transaction history की एक फुल कॉपी होती है| ये ब्लॉकचेन अपने आप को हर 10 मिनट में अपने आप को update करती है|

बिटकॉइन के लिए ब्लॉकचेन क्यूँ ज़रूरी है

बिटकॉइन के लिए ब्लॉकचेन एक specific type का एक database है जो हर बिटकॉइन transaction को स्टोर रखता है| बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी में ब्लॉकचने इन करेंसी के option को नेटवर्क पर spread करता है जिससे इन करेंसी को बिना central authority के ऑपरेट करना पॉसिबल हो पाता है| इसके इस्तेमाल से रिस्क भी कम होता है और बहुत से transaction और processing फ़ीस भी eliminate हो जाती है|

बिटकॉइन के ब्लॉकचेन में जो ब्लॉक होते हैं वो monitory transaction के डेटा को स्टोर करते है लेकिन असल में ब्लॉकचेन transaction के दुसरे टाइप के डेटा को स्टोर करने के लिए reliable (विश्वसनीय) होता है| ऐसे बहुत से area है जहाँ ब्लॉकचेन उपयोगी साबित हो सकते है और बहुत से important centers को बेहतर बना सकती है|

ब्लॉकचेन का इस्तेमाल कहाँ-कहाँ किया जाता है

  • Healthcare सेक्टर में ब्लॉकचेन का इस्तेमाल करके मेडिकल रिकॉर्ड को securely स्टोर किया जा सकता है| इसके लिए मेडिकल रिकॉर्ड जब generate और create किया जाये तो इसे ब्लॉकचेन पर लिखा जा सकता है इससे पेशेंट को यह प्रूफ मिलेगा कि उनके डेटा को अब चेंज नहीं किया जा सकता है| इन रिकॉर्ड को ब्लॉकचेन पर स्टोर करते समय private key का इस्तेमाल भी किया जा सकता है जिससे इनकी प्राइवेसी भी बने रहे|
  • इसका इस्तेमाल supply चेन में भी किया जाता है| supply चेन में supplier ब्लॉकचेन में अपने ख़रीदे हुए material का रिकॉर्ड रख सकते हैं जिससे उस प्रोडक्ट के authenticity को verify किया जा सकता है|
  • Modern voting system में भी ब्लॉकचने का इस्तेमाल करके इलेक्शन फ्रॉड को रोका जा सकता है और ब्लॉकचेन की मदद से इस प्रोसेस में transparency भी बनाई रखी जा सकती है|

निष्कर्ष :

दोस्तों, आअज के इस आर्टिकल में मैंने आपको ब्लॉकचेन के बारे में पूरी जानकारी दी जैसे ब्लॉकचेन क्या है, ब्लॉकचेन कैसे काम करता है और भी बहुत कुछ जानकरी| अगर आप ने यह आर्टिकल What is Blockchain in Hindi को पूरा पढ़ा होगा तो आपको ब्लॉकचेन के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी| अगर आपको इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप कमेंट में पूछ सकते है और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर करें|

Leave a Comment