What is Firmware in Hindi | फर्मवेयर क्या है पूरी जानकारी

Rate this post

What is Firmware in Hindi? कंप्यूटर में बहुत से प्रकार के हार्डवेयर और सॉफ्टवेर होते है जिसके द्वारा कंप्यूटर यूजर द्वारा दिए गए कार्य करने में सक्षम हो पाता है| हर सॉफ्टवेर और हार्डवेयर किसी विशेष कार्य को करने के लिए बनाये जाते है| हम सभी ने हार्डवेयर और सॉफ्टवेर के बहुत से नाम सुने होंगे लेकिन एक और चीज़ है जिसके बिना कंप्यूटर शुरू भी नहीं किया जा सकता है और वह firmware है|

फर्मवेयर का नाम आप लोगों ने सुना ही होगा लेकिन क्या आपको पता है कि कंप्यूटर को शुरू करने में इसकी क्या भूमिका होती है शायद नहीं| अब तक हम लोग यही जानते आ रहे हैं कि कंप्यूटर operating system और CPU के वजह से काम करता है लेकिन यह सिर्फ आधा अधुरा सच है| फर्मवेयर के बिना कंप्यूटर किसी काम का नहीं है|

आपको जानकर हैरानी होगी कि फर्मवेयर का उपयोग सिर्फ कंप्यूटर में ही नहीं बल्कि बहुत से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और हार्डवेयर में भी किया जाता है जैसे smartphone, smartwatch, start tv, washing machine इत्यादि| इसका काम भले ही छोटा होता है लेकिन यह हर एक machine devices के लिए बहुत ज़रूरी है इसी लिए आज के इस आर्टिकल में मैं आपको firmware kya hai और यह कहाँ स्टोर होकर रहता है इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक ज़रूर पढ़े|

फर्मवेयर क्या है : What is Firmware in Hindi

फर्मवेयर को समझने से पहले आपको हार्डवेयर और सॉफ्टवेर को अच्छे से समझना ज़रूरी है| हार्डवेयर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो कंप्यूटर के वो भाग होते है जिसे हम छु और देख सकते है| यह कंप्यूटर का फिजिकल पार्ट होता है जिसकी मदद से कंप्यूटर की बॉडी तैयार की जाती है| हार्डवेयर का उदहारण है Monitor, Keyboard, Mouse, CPU इत्यादि| सॉफ्टवेर instruction और program का एक सेट होता है जो विशेष कार्य को करने के लिए कंप्यूटर को निर्देश देता है| सॉफ्टवेर यूजर को कंप्यूटर पर कार्य करने की योग्यता प्रदान करता है| operating system सॉफ्टवेर का मुख्य उदहारण है|

अगर आप सॉफ्टवेर और हार्डवेयर के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो आप हमारा यह आर्टिकल पढ़ सकते है जिसमें हार्डवेयर और सॉफ्टवेर के बारे में पूरी जानकारी दी गई है|

Hardware क्या है और इसके प्रकार

Software क्या है और इसे कैसे बनाये जाते है

अब हम जानते है कि फर्मवेयर क्या होता है, फर्मवेयर एक प्रकार का सॉफ्टवेर है जो हार्डवेयर के एक हिस्से में जुड़ा होता है| फर्मवेयर में किसी भी हार्डवेयर के बेसिक फंक्शन को करने के instruction प्रोग्राम होते है इसी लिए हम फर्मवेयर को हार्डवेयर के लिए सॉफ्टवेर भी कह सकते है| फर्मवेयर एक ऐसा प्रोग्राम है जो हार्डवेयर के साथ जुड़कर आता है यानि फर्मवेयर को किसी भी हार्डवेयर कि बनाने के समय ही उसमें स्थापित किया जाता है| जैसे कि कीबोर्ड, हार्डड्राइव, ग्राफ़िक कार्ड, प्रिंटर या इसके अलावा आपके कोई भी होम एप्लायंसेज जैसे टीवी, माइक्रोवेव, वाशिंगमशीन इत्यादि में भी फर्मवेयर जुड़ा होता है|

फर्मवेयर सॉफ्टवेर का एक छोटा सा भाग है जो हार्डवेयर का काम करता है| ये सभी हार्डवेयर डिवाइस को सिस्टम के अन्य डिवाइस के साथ कम्यूनिकेट करने और बेसिक input और output टास्क को परफॉर्म करने के लिए इंस्ट्रक्शन देता है| फर्मवेयर के बिना हमारे द्वारा ज़्यादातर इस्तेमाल किये जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस काम नहीं कर सकते है| क्यूंकि हर छोटे बड़े उपकरण में एक सॉफ्टवेर install किया गया है जिसकी मदद से वो यूजर द्वारा दिए गये input को समझता है और उसके अनुसार काम करता है|

इसका एक साधारण सा उदहारण है washing machine जिसमें कुछ बटन होते है जिसका इस्तेमाल करके मशीन को कण्ट्रोल किया जाता है और हम अपने ज़रुरत के अनुसार उससे काम करवाते हैं| लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि जैसे ही हम कोई बटन दबाते हैं तो मशीन कैसे समझ जाती है कि कितनी स्पीड से या फिर किस मोड में काम करना है| वो इसीलिए समझ जाती है क्यूंकि उसके अन्दर एक मेमोरी रहती है ज्सिमे फर्मवेयर को install किया रहता है उसी सॉफ्टवेर के वजह से मशीन हमारे input को समझ जाती है| इसी तरह आपने कंप्यूटर का BIOS देखा होगा वो भी एक फर्मवेयर है जो कंप्यूटर के हार्डवेयर के ROM में install रहता है|

कंप्यूटर में ऑपरेटिंग सिस्टम को लोड करने से पहले फर्मवेयर सभी हार्डवेयर डिवाइस को चेक करता है कि वो सभी सही situation में है कि नहीं और वह ठीक से काम भी कर रहे हैं कि नहीं और उसमे कोई डिफेक्ट तो नहीं है| उसके बाद ही ऑपरेटिंग सिस्टम को RAM में लोड करके कंप्यूटर को कार्य करने की परिस्थिति में लाता है|

फर्मवेयर कंप्यूटर में कहाँ स्टोर रहता है

अब आपको यह तो पता चल ही गया होगा कि फर्मवेयर सॉफ्टवेर के रूप में सीधे हार्डवेयर डिवाइस पर इंस्ट्रक्शन देने के लिए एक प्रोग्राम के रूप में लिखे जाते है लेकिन सवाल यह आता है कि फर्मवेयर एक डिवाइस पर कहाँ स्टोर किया जाता ह| फर्मवेयर एक विशेष प्रकार की मेमोरी में स्टोर रहता है जिसे Flash ROM कहा जाता है| ROM जिसे Read Only Memory कहा जाता है इसमें manufacture कंपनी के द्वारा एक ही बार प्रोग्राम लिखा जाता है बाद में ज़रुरत पड़ने पर इसे re-write किया जा सकता है|

कंप्यूटर को हमारे दिए गये इनपुट को समझने के लिए रोम की ज़रुरत होती है क्यूंकि इसमें data स्थायी रूप से स्टोर रहता है| इसमें data तब भी स्टोर होकर रहता है जब डिवाइस बंद हो जाता है या फिर डिवाइस को पॉवर नहीं मिलता है| रोम नहीं होता तो फर्मवेयर भी अपना काम नहीं कर पाता|अन्य सॉफ्टवेर की तरह भी फर्मवेयर का भी updated version तैयार किया जाता है ताकि यह पहले से और भी बेहतर performance दे सके|

फर्मवेयर update क्यूँ और कैसे करना चाहिए

अभी के समय में हम किसी भी सॉफ्टवेर को update कर सकते है और फर्मवेयर भी एक सॉफ्टवेर है इसलिए इसे भी अपडेट किया जा सकता है| लेकिन साल 2013 से पहले ऐसा नहीं था इससे पहले फर्मवेयर एक ही बार हार्डवेयर के साथ लोड होकर आता था, लेकिन जब किसी bug या error के कारण हैकर ने फर्मवेयर को हैक किया था तभी से फर्मवेयर का update आना शुरू हो गया है|

फर्मवेयर पहले से ही किसी प्रोडक्ट के साथ आता है, जब यह खराब हो जाता है या उस प्रोडक्ट को बनाने वाले कंपनी को ऐसा लगता है कि यह डिवाइस सही से कम नहीं कर रहा है या इसमें कोई problem या error है तो ऐसे में कंपनी फर्मवेयर को update करती है| फर्मवेयर update करने के बाद यह आपके डिवाइस के performance को बेहतर बनाता है|

फर्मवेयर को update करने के लिए आप सीधे प्रोडक्ट के manufacturer के वेबसाइट से updated version को डाउनलोड कर सकते है या फिर CD या DVD का उपयोग करके भी आप इसका उपयोग कर सकते है| डिवाइस के फर्मवेयर को update करना ज़्यादा मुश्किल नहीं होता है बस जब आपका सिस्टम update होने के लिए तैयार रहेगा तब वह आपको फर्मवेयर अपडेट करने के लिए सूचित करेगा| उसके बाद कंपनी के वेबसाइट से updated version को डाउनलोड कर install करके run कर सकते है| और उसके बाद सिस्टम को restart करने के बाद आपके सिस्टम का फर्मवेयर update हो जाएगा|

फर्मवेयर सॉफ्टवेर update करते समय आपको यह ध्यान रखना है कि जब आप फर्मवेयर अपडेट कर रहे हैं तो आपका सिस्टम बंद नहीं होना चाहिए इससे आपका डिवाइस ख़राब होने का खतरा होता है| यहाँ पर ध्यान रखने वाली बात एक और यह है कि आप केवल वही updated सॉफ्टवेर आप डाउनलोड करे जो manufacture कंपनी के वेबसाइट पर provide की जाती है किसी दुसरे वेबसाइट से नहीं वरना आपके डिवाइस को नुक्सान भी पहुँच सकता है|

निष्कर्ष :

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको फर्मवेयर के बारे में पूरी जानकारी दी जैसे फर्मवेयर क्या है, What is Firmware in Hindi, फर्मवेयर कहाँ स्टोर रहता है और फर्मवेयर को क्यूँ और कैसे update किया जाता है| अगर आपको What is Firmware in Hindi के इस आर्टिकल से सोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते है| और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के पास ज़रूर शेयर|

Leave a Comment